मुख्य-पृष्ट
वैवाहिक कार्यक्रम
वैवाहिक योजना
वैवाहिक आवश्यकता
वैवाहिक गीत
वैवाहिक स्रोत
वैवाहिक उपयोगी बातें
1. कुछ उपयोगी बातें
2. विवाह का पंजीकरण
3. जन्म- कुण्डली मिलान
4. सात वचनों की डोर
5. सोलह श्रृंगार
6. सात शत्रु
7. पत्रिका मिलान
8. एक ही गौत्र में विवाह?
9. विवाह संस्कार
10. विवाह संस्कार कर्म
11. विवाह योग के कारक
12. विवाह योग
13. विवाह का विज्ञान
14. विवाह के उपाय
15. सप्तपदी
16. कन्यादान - शिक्षा एवं प्रेरणा
17. कन्यादान क्या, क्यों और किसे?
वैवाहिक हंसिकाएं
वैवाहिक डाऊनलोड
वैवाहिक समाचार
वैवाहिक रोचक रीति-रिवाज
वैवाहिक शब्दकोश
अन्य उपयोगी बातें
हमारी सेवाऐं
हमारे बारें में

महत्त्वपूर्ण है विवाह संस्कार

मनुष्य जीवन में इस संस्कार का अत्यधिक महत्व है। आज भी प्रत्येक परिवार में वैवाहिक कार्यक्रम अत्यधिक हर्षोल्लास एवं अपनी-अपनी सामर्थ्य के अनुसार अधिकतम व्यय के साथ सम्पन्न कराया जाता है। वैदिक वाग्मय में आश्रम चतुष्टय के सिद्धांत को अधिक सराहा गया है। इस परिप्रेक्ष्य में भी विवाह संस्कार की महत्ता सर्वविदित है। हमारे धर्म शास्त्रों में सोलह प्रकार के संस्कार बताये गये हैं जिन्हें धर्मानुसार मानना आवश्यक है। हमारे कर्म इन्हीं संस्कारों के अनुरूप होने चाहिये। इन्हीं सोलह संस्कारों में एक संस्कार है ‘विवाह संस्कार’। विवाह संस्कार किस प्रकार पूर्ण किया जाना चाहिये, इसकी धार्मिक व्याख्या पाठकों के लाभार्थ यहां प्रस्तुत की जा रही है। आशा है आप पाठकों करे इस संस्कार का ज्ञान होने पर आप भी विवाह संस्कार को धार्मिक रीति से पूर्णता देंगे। आइए देखें किस प्रकार सम्पन्न होगा यह ‘विवाह संस्कार’।

षोडश संस्कारों का भारतीय धर्म परम्परा में अपना विशेष महत्व है। वेदों में जीवन निर्माण को अत्यधिक महत्व दिया गया है, जिसमें गर्भाधान से लेकर मृत्यु तक की क्रिया का विशद विवेचन है। ‘संस्कार’ शब्द का मतलब है–‘स्पर्श द्वारा आकार,’’ अर्थात् एक बीज को स्पर्श देकर उसे पूर्णता तक पहुँचाना ही संस्कार है। संस्कार का तात्पर्य है ‘शुद्ध आकार’ अर्थात पूरे जीवन में अशुद्धता की स्थिति न बने, उच्च विचार, उच्च ज्ञान के साथ वह अपनी यात्रा प्रारम्भ करे। ‘संस्कार’ शब्द से ही ‘संस्कृत’ शब्द बना है।

मनुष्य को सोलह बार संस्कारित करने की अति प्रभावी संस्कार प्रक्रिया से प्राचीन तत्वदर्शी भली प्रकार अवगत थे अतएव उनसे ऐसे निर्धारण किए कि संचित कुसंस्कारों की निवृत्ति करने की विशेष उपचाय प्रक्रिया काम में लाई जाय। इन प्रयोजनों के लिए निर्धारित वेदमन्त्र, अग्नि-होत्र, देवाह्मन, कर्मकाण्ड, साथ-साथ प्रशिक्षण की समन्वित प्रक्रिया को संस्कार कृत्य कहते हैं। यह मात्र चिन्ह पूजा नहीं है। यदि उसे सही शास्त्रोक्त रीति से सम्पन्न किया जा सके तो उस व्यक्ति पर आशाजनक प्रभाव पड़ता है जिसका कि संस्कार कराया गया।

वेदों में मनुष्य की आयु को चार भागों में विभाजित किया गया है–ब्रह्मचर्य आश्रम, गृहस्थ आश्रम, वानप्रस्थ आश्रम एवं संन्यास आश्रम। ब्रह्मचर्य-आश्रम के संस्कारों में प्रमुख तथा महत्त्वपूर्ण संस्कार पाणिग्रहण संस्कार है। यह संस्कार न केवल समस्त आश्रमों और वर्णों का अपितु समस्त सृष्टि का मूल कारण है। जगत के छोटे से छोटे अणु से लेकर बड़े से बड़े पदार्थ का उद्भव इसी संयोग प्रक्रिया द्वारा होता है, चाहे वह मानव हो, पशु हो, पक्षी हो, लता, वनस्पति या कुछ भी हो। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमारे आचार्यों ने विवाह संस्कार को भी षोडश संस्कारों में सम्मिलित किया और इस कर्म को मनुष्यों के लिए अनिवार्य कहा गया।

आज के युग में जिन लोगों का दाम्पत्य जीवन सुखपूर्वक बीत रहा है वे सौभाग्यशाली हैं। आज स्थिति यह हो गई है कि 90 प्रतिशत विवाह असफल रहते हैं, घर के स्वर्ग की जो कल्पना की गई है, उसके विपरीत एक तनावपूर्ण कलह और दुःखभरी जिंदगी बनकर ही रह गया है आज का सामान्य गृहस्थ जीवन। इस सबका मूल कारण होता है, एक दूसरे को भली-भांति न समझ पाना और ऐसा तभी होता है, जब दोनों में संस्कारों का अभाव होता है।

विवाह की तो अनेक रस्में होती हैं, कर्मकाण्ड होता है, रीति परंपरागत तौर-तरीके होते हैं, वे एक प्रकार से दो अंजान व्यक्तियों के एकीकरण की सामाजिक स्वीकृति मात्र के लिए ही किए जाते हैं। परंतु जिस संस्कार की बात यहां हो रही है, वह आत्मा के स्तर का संस्कार होता है, अर्थात् पति एवं पत्नी का आत्मिक रूप से सामंजस्य, जो कि नितांत आवश्यक होता है। तभी विवाह सुदृढ़ एवं सफल हो सकता है, इसके लिए दोनों पक्षों की न्यूनताओं को दूर करने के लिए प्राचीन समय में दैवीय सहायता का उपयोग किया जाता था, देवताओं से प्रार्थना की जाती थी कि वे वर-वधू को आशीष प्रदान कर उन्हें जीवन में सुख, सौभाग्य, होनहार संतान, यश, सम्मान, वैभव, सुख-सुविधा, धर्म, साधुसेवा, दान आदि सुकृत्यों से धन्य करें। आजकल ऐसा प्रायः देखने में नहीं आता।

त्याग, क्षमा, धैर्य, संतोष--ये सभी मनुष्य जीवन के अलंकार है। इन्हीं गुणों का संग्रह तथा अभ्यास भी विवाह का एक उद्देश्य है। गृहस्थ में रहते हुए दंपत्ति को एक दूसरे के हित के स्वार्थ त्याग, अनुचित व्यवहार में भी क्षमा, अत्यंत कष्ट में भी धैर्य आदि गुणों का प्रयोग करना अनिवार्य हो जाता है। यही गुण विकसित होकर मनुष्य को सामाजिक क्षेत्र में विशिष्ट व्यक्तित्व प्रदान करते हैं। गृहस्थ की इस पाठशाला में त्याग, प्रेम आदि का पूर्ण अभ्यास कर जब दंपत्ति इन दैव गुणों का प्रयोग ईश्वर प्राप्ति एवं अध्यात्म मार्ग में करते हैं, तो वे भगवत्प्राप्ति के अत्यंत सन्निकट पहुंच जाते हैं, जो मानव जीवन का परम लक्ष्य है।

(पं. कमल श्रीमालीजी द्वारा रचित पुस्तक ‘‘विवाह में बाधा’’ कारण और निवारण।) से...

| विवाह सम्बन्धित कुछ उपयोगी बातें |जरूरी है विवाह का पंजीकरण | जन्म- कुण्डली मिलान क्यों ? | सात वचनों से बंधी है डोर | नववधू का सोलह श्रृंगार | सात शत्रु | पत्रिका मिलान आवश्यक नहीं | क्यों नहीं करना चाहिए एक ही गौत्र में विवाह? | महत्त्वपूर्ण है विवाह संस्कार | विवाह संस्कार कर्म | विवाह योग के कारक | विवाह योग | सुखी विवाह का विज्ञान | विवाह के उपाय | सप्तपदी | कन्यादान - शिक्षा एवं प्रेरणा | कन्यादान क्या, क्यों और किसे? |

Find US on

This Website is Developed by Saajan Verma "Sanjay"
© 2013-2014 www.SagaaiSeVidaaiTak.in. All Right Reserved.
Powered By :